independence day cast Kavita shayari

इस आज़ादी के लिए, लाखो हुए बलिदान ।
जीवन का एक लक्ष्य लिए, त्यागा उन्होंने प्राण ।।
एक देश आज़ादी का, चाहिए था उन्हें सम्मान ।
जिससे ये कहलाए ये, देश हिंदुस्तान ।।


भारतीयों की बारी थी, अंग्रेजो को दिखाने की ।
अपनी वीर गाथा, उनको सुनने की ।।
देश मे अब, अपने तिरंगे लहराने की ।
अनेकता में एक देश, भारत कहलाने की ।।


अंग्रेज भी कापने लागे, भारतीय दहाड़ से।
पैर भी खड़खाड़ने लगे, हमारे इस वार से ।।
सोच में थे वो, हाँ इस बात से ।
अब बारी थी ये, war हां आर-पार के ।।



उड़ने का अधिकार मिला, दुनिया मे बोलबाला ।
भेदभावी गोरे बोलते हमें, हमसे तू काला ।।
तुमसे आगे हैं, सबकुछ ढेर सारा ।
हमनें भी, अपनी GDP 7.६ कर डाला ।।


Super power बनने, के कगार में ।
दुनिया को देने वाले, नए आकार में ।।
होने आया सपना, है साकार में ।
बड़े न होंगें हम, बस आकार में ।।


 Happy independence day all of you.
( Jai hind, bands matram )

Post a Comment

0 Comments