minimum wage Kavita/shayari

ये कहानी, उन मजदूरों की ।
जिनकी जीवन, अधूरी सी ।।
अपने ख्वाबो को छोड़कर,
दुसरो की ख्वाब पूरी की ।।।


खून पसीने मेहनत से, इसने खान हीरे दी ।
लाखो खोये खान में, किसी को न  थी पीङे सी ।।
ऐ पीङा थी उन परिवारों को,
                                     जिनके पैर अंगारो पे ।
ओ न रहा साथ यहाँ,
                           जो उठता उन्हें बीड़े सी ।।


ये कहानी, उन मजदूरों की ।
जिनकी जीवन, अधूरी सी ।।
अपने ख्वाबो को छोड़कर,
दुसरो की ख्वाब पूरी की ।।।

इन्होंने सड़को को भी साफ की,
                                         अनाज और शाक दी ।
बड़े इमारतों के बनने में भी,
                                    अपनी पूरी साथ दी ।

और जब बात की, अपनी इस मजबूरों की ।
साथ दे दो थोड़ी सी , कर दो सपने पूरे भी ।।


तब लोगों ने कहकर टाल दिया,
                                         उस पे न कोई ध्यान दिया ।
बाते समझमे आया उस वक़्त,
                                 जब अपने को सूली के नाम किया ।।


ये कहानी, उन मजदूरों की ।
जिनकी जीवन, अधूरी सी ।।
अपने ख्वाबो को छोड़कर,
दुसरो की ख्वाब पूरी की ।।।


Post a Comment

0 Comments